About this website

Techcalculation एक हिंदी ब्लॉग है इस ब्लॉग पर आपको Computer, Internet, Mobile और अन्य सभी Technology के बारे में जानकारी हिंदी में मिलती है।

Cloud computing in Hindi| क्लाउड कम्प्यूटिंग क्या है।

Cloud Computing और Cloud storage क्या है आपने यह शब्द बहुत बार सुना होगा । क्या है क्लाउड कम्प्यूटिंग, क्या बादलों में computer लगे हुये है या बादलों में हमारा Data store होता है कुछ ऐसे ही सारे सवालों के जवाब इस post में मिलने बाले है ।

Cloud Computing क्या है

Cloud Computing वह टेक्नालजी है जिसमे Internet का इस्तमाल करके कई तरह की services प्रदान की जाती है । फिर वह किसी तरह का software हो सकता है । या server पर space देना हो सकता है । cloud computing का मतलब किसी भी तरह की कम्प्यूटिंग services को internet के जरिये user की डिमांड पर देना है। इसे हम एक उदाहरण से समझते है।

तो चलिये मान लीजिये आपके पास एक कम्प्युटर है जिस पर आप Daily के Normal काम करते है गाने सुनते है फिल्म देखते है, गेम खेलते है। अब मान लीजिये आपको एक ऐसा software चलाना है जो आपके पास नहीं है और उसे चलाने के लिए कुछ पैसे देने पड़ते है पर आपने पैसे दे कर उस Software को खरीद लिया पर आपका computer उस software को support नहीं कर रहा है और ऐसे में उस software को चलाने के लिए अब आपको अपने computer को Upgrade करना पड़ेगा उसमें High memory की RAM  और processor लगाना पड़ेगा या फिर आप एक नया महंगा computer खरीद कर लाएंगे जिसके processing speed बहुत अच्छी हो । अगर आप यह सब करना नहीं चाहते तो एक तरीका और है अगर आपके पास एक High speed Internet है तो आप किसी और का computer किराये पर ले सकते है। और उस computer को Internet के जरिये चला  सकते है। तो इसे ही हम क्लाउड कम्प्यूटिंग कहते है।

अब सवाल यह आता है कि हमें अपना computer किराये पर कोन देगा तो Internet पर ऐसी कई Service है जो Cloud Computing के लिए अपना System किराये पर देते है। यहाँ आप अपने हिसाब से computer को configure कर सकते है कि आपको कोन सा Processor चाहिए , कितनी RAM चाहिए , कितना  Hard disk space चाहिए और आप कोन सा Operating system चलाना चाहते है। और इसी हिसाब से आपको खर्च बता दिया जाता है कि आपको 3 महीने के लिए या 6 महीने के लिए इतने रुपए का भुगतान करना पड़ेगा । अब यह आपकी मर्जी है कि आप Cloud computing को कितने दिनों तक चलाना चाहते है।

क्लाउड कम्प्यूटिंग काम कैसे करती है।

Cloud computing में कई सारे server या computers लगे होते है या एक या एक से अधिक भी हो सकते है इसमें कई सारे software install होते है। Cloud computing dual layer technology पर काम करता है। server को Manage करने के लिए Back end layer होती है और user को Manage करने के लिए front end होती है।

इसे हम एक उदाहरण से समझते है मान लेते है मैंने एक High Processor computer लिया है और उसमें 1 TB की हार्डडिस्क लगाई है और मैंने उस computer को High speed internet से 24×7 online कर दिया है। और मैंने अपने Friends और सभी लोगों को बता दिया है कि आप अपना phone या computer का Data मेरे computer पर सेव कर के रख सकते है और मैंने सभी को उनका User ID और password दे दिया है वह जब भी चाहे User ID और password डाल कर वह अपने-अपने Data को access कर सकते है पर इसके बदले में  उन सभी को मुझे कुछ रुपये महीना देना पड़ेगा ।

इसे अगर और सरल भाषा में समझा जाये तो आपने कभी Team viewer या Any desk का नाम सुना होगा।  Team viewer या Any desk से हम एक Computer से दूसरे कम्प्यूटर को Access कर सकते है पर इसका use हम किसी computer की problem को solve करने के लिए करते है।

ठीक ऐसे ही Cloud computing service provider करते है। उनके पास कई सारे computers और Hard disk होती है जो हमेशा Internet से Connected रहते है। और जो भी user अपने हिसाब से computer configure करता है उसे user ID और password दे दिया जाता है और फिर user अपने account में login कर के उस computer को Remotely access कर सकता है। बशर्ते आपके Internet की speed अच्छी होनी चाहिए ।

क्लाउड कम्प्यूटिंग के प्रकार ।

Public cloud कम्प्यूटिंग

Public cloud हर व्यक्ति की लिए होता है इसमें कोई भी व्यक्ति इस सर्विस का उपयोग कर सकता है। यह service provider द्वारा Manage किया जाता है। यह सर्विस फ्री भी हो सकती है या फिर इस सर्विस को काम कीमत पर लिया जा सकता है जैसे अमेज़ोंन वेब सर्विस (AWS) Microsoft azure यह सब public cloud computing के उदाहरण है।

Private cloud computing

इस Cloud computing service में user अपने cloud storage को किसी अन्य व्यक्ति के साथ Share नहीं करता है जैसे Google Drive एक Private Cloud computing का उदाहरण है। यहाँ आपका पूरा डाटा जो भी data आप अपनी Google Drive पर डालते है वह आपकी Email ID और Password से सुरक्षित रहता है।

Cloud Computing के फायदे ।

आज के समय में कई एसी कंपनियाँ है। जो Cloud पर depend रहती है। जैसे मान लीजिए एक कंपनी है जिसमें 1000 कर्मचारी काम करते है अब उन सभी लोगों का डाटा और कंपनी का डाटा और जिस software पर वह लोग काम करते है अगर कंपनी यह खुद से Manage करेगी तो कंपनी को अलगा से एक Team रखनी पड़ेगी । पर अगर वही कंपनी किसी Cloud computing service provider से Contact कर लेती है कि जो भी कंपनी का Data है वह सब Cloud service provider Manage करेगा । और कंपनी उसे हर महीने या सालाना भुगतान करीगी ।

इसके अलावा Cloud computing Students के लिए भी बहुत काम की हो सकती है मान लीजिये आप एक नया Operating system सीखना चाहते है पर आप उसे अपने system में install करना नहीं चाहते या कोई और समस्या हो सकती है जैसे आपका system उस operating system को support नहीं कर रहा है तो ऐसे में आप Cloud Computing से उस operating system को सीख सकते है।

इसके साथ-साथ अगर में Cloud computing use करता हूँ और मैंने अपने काम की सारे फाइलें उस computer में save कर के रखी है। अब में जब चाहे तब कहीं से भी अपने काम कोई कर सकता हूँ जरूरी नहीं है की cloud computing के लिए एक laptop या computer की जरूरत पड़ती है उसे में Tablet या Phone से भी operate कर सकता हूँ।

अब एक बार सोचिए आप आपने Computer पर अपना personal काम और office का काम करते है पर किसी कारणवश  आपके computer की Hard disk Crash हो जाती है और आपने अपनी Hard disk का कोई backup नहीं लिया है तो ऐसे में अपने जो भी काम किया था वह सब नष्ट हो जाएगा और अगर आप Cloud computing को use करते है तो आपको अपने Data के बारे में चिंतित होने की कोई जरूरत नहीं है क्यूकी Cloud computing service provider आपके Data का Backup रखते है।

क्या अपने कभी सोचा है कि Facebook पर हम Photos और Video share करते है तो वह photo और Videos कहाँ store होती है। या फिर आप अपने photos और video को save करने के लिए Google drive या Drop box जैसी service का use करते है आप जाने अनजाने में Cloud computing service या कहें Cloud storage का use करते है।  Google के पास  Cloud storage Data center है और  जब हम Google Drive पर अपना कोई भी Data डालते है  तो Google ने हमें 15 GB का Storage या कहें 15 GB की Hard disk हमें Free में use करने के लिए दी है यह पूरी तरह से हमारा Space है इसमें हम अपनी मर्ज़ी से कुछ भी डाल सकते है और कुछ भी delete कर सकते है। और जब चाहे अपने Data को access कर सकते है बस हमें अपने user ID और password डाल कर login करना है।  और अगर हमारा 15 GB space full हो जाता है तो हम इस space को कुछ कीमत दे कर बढ़ा भी सकते है। और इसे ही हम Cloud storage कहते है।

Data और Information क्या होता है ।

Cryptography क्या होती है

Cloud computing के अन्य उदाहरण

YouTube :- YouTube पर रोजाना लाखों videos upload होते है YouTube आपको Videos upload करने के लिए कोई भी कीमत नहीं लेता है। इतने सारे videos store करने के लिए लिए YouTube Cloud Computing Technology का इस्तमाल करता है।

Facebook:- सबसे लोकप्रिय सोशल मीडिया जिस पर अरबों लोग अपने फोटो और Videos share करते है और उन सभी Users के Data को store करने के लिए Facebook Cloud computing का इस्तमाल करता है।

मुझे पूरी आशा है कि आप लोगों को  Cloud computing क्या होती है इसके बारे में समझ आ गया होगा अगर आपको यह Post अच्छी लगी तो आप सभी से गुजारिश है कि आप लोग इस जानकारी को अपने दोस्तों, रिश्तेदारों, के साथ share करें, जिससे कि हमारे बीच जागरूकता होगी और ज्ञान बढ़ेगा। अगर आप लोगों को किसी भी तरह का Doubt है तो आप मुझे बेझिजक comment कर के पूछ सकते है। में पूरी कोशिश करूंगा कि आपके सवाल का जवाब दे सकूँ। और इस post को पूरा पढ़ने के लिए धन्यवाद।  

Techcalculation
Techcalculation

Techcalculation.com एक हिंदी ब्लॉग है इस ब्लॉग पर आपको टेक्नॉलजी, कम्प्यूटर, Internet और एजुकेशन से सम्बंधित जानकारी हिंदी में मिलती है

Articles: 38

Leave a Reply

Your email address will not be published.