About this website

Techcalculation एक हिंदी ब्लॉग है इस ब्लॉग पर आपको Computer, Internet, Mobile और अन्य सभी Technology के बारे में जानकारी हिंदी में मिलती है।

DNA data storage technology हिन्दी में

हम सभी जानते है कि अपने फोन या computer या किसी अन्य digital device में data storage करने के लिए Storage device का use किया जाता है जैसे Memory card, Pen drive, Hard Disk. और आज के समय में लगभग सभी लोग अपने data को store करने के लिए Hard disk, Pen drive, Memory Card और SSD जैसी Devices को use करते है और इसके अलावा कुछ लोग अपना Data Cloud storage पर भी save करने लगे है। पर अब Cloud storage से आगे data storage का क्या भविष्य होगा , भविष्य में Data storage के लिए कोन कोन सी Devices या Technology आने वाली है वह आज हम इस Post में जानेंगे। आज इस पोस्ट में हम बात करेंगे DNA Data storage के बारे में इस technology से अब हम अपने DNA में Data Store कर के रख सकते है।

DNA Data storage एक ऐसी Future technology जिस से हम अपने DNA में Data को store कर सकते है । सबसे पहले हम DNA को समझते है । DNA अपने आप में एक Memory element होता है जब भी वैज्ञानिक को किसी के बारे में कोई information चाहिए होती है तो उसके DNA sample से सारी information निकली जा सकती है जैसे उसकी Height क्या रही होगी। body size क्या रहा होगा । skin का रंग कैसा था उसकी आँखों का रंग कैसा था । मतलब सिर्फ एक DNA sample से किसी व्यक्ति या किसी Animal के बारे में यह सब पता लगाया जा सकता है और इसका मतलब यह है की DNA यह सब कुछ अपने अंदर स्टोर कर के रखता है। और इसी चीज का फायदा ले कर हम Digital data को DNA में store कर सकते है । चलिये अब यह कैसे possible है इसके बारे में जानते है DNA basically 4 organic bases से बना है adenine, guanine, cytosine, thymine और इन्हें हम A G C T भी कहते है । अब A, G, C, T में से 3 का एक group बनाया जाता है जैसे A, G, C, T में से CTC का एक ग्रुप बन गया इसी तरह TTC का एक ग्रुप बन गया और इन groups को Codon कहते है । और इस ग्रुप से बना codon एक molecule को दर्शाता है जैसे TCT group का मतलब Serine (सेरीन) और CTC ग्रुप Leucine होता है । और इसी के चलते 1999 में, न्यूयॉर्क के वैज्ञानिकों ने  Codon से 64 alphabets की  एक वर्णमाला बनाई जिसमे A से लेकर Z तक के alphabet, numbers और symbols थे और इन्हीं Codon और वर्णमाला से DNA cryptography को बनाया गया. और बाइनरी डिजिट 1 और 0 को DNA codes में translate करके डिजिटल डेटा को सिंथेटिक डीएनए में प्रोग्राम किया जा सकता है, फिर उस Data को decode कर के उसके original forms में लाया जा सकता है । 2012 में, ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने 739 KB कंप्यूटर फ़ाइलों को Encode किया और चार साल बाद, माइक्रोसॉफ्ट और वाशिंगटन विश्वविद्यालय के शोधकर्ता ने इस record को तोड़ा और 200 MB Data को DNA में स्टोर किया । अगर इसके storage capacity की बात की जाए तो आप एक पेंसिल Eraser पर 10 करोड़  HD फिल्में फिट कर सकते हैं। और यह भी अनुमान लगाया जा रहा है कि Pure internet पर जितना भी डाटा है Videos , Audio, Image, Files, Text उस सभी Data को एक shoo box में फिट किया जा सकता है इसके अलावा आज हम जो Devices use कर रहे है जैसे Pen drive, Hard disk, वह कुछ दशकों तक Data को save कर सकती है फिर इनकी life खत्म हो जाती है पर DNA में हम Data को हजारों वर्षो तक स्टोर कर के रख सकते है और DNA को ठंडे और अंधरे वातावरण  में छोड़ दिया जाये तो यह लाखों वर्षों तक Data store कर सकता है ।

मुझे पूरी आशा है कि आप लोगों को DNA Data storage के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी । आप सभी से गुजारिश है कि आप लोग इस जानकारी को अपने दोस्तों, रिश्तेदारों, के साथ share करें , जिससे कि हमारे बीच जागरूकता होगी और ज्ञान बढ़ेगा । अगर आप लोगों को किसी भी तरह का Doubt है तो आप मुझे बेझिझक comment कर के पूछ सकते है । में पूरी कोशिश करूंगा कि आपके सवाल का जवाब दे सकूँ । और इस post को पूरा पढ़ने के लिए धन्यवाद । 

IPv4 क्या है Internet Protocol version 4 हिन्दी में

IPv6 क्या है Internet Protocol version 6 हिन्दी में

Techcalculation
Techcalculation

Techcalculation.com एक हिंदी ब्लॉग है इस ब्लॉग पर आपको टेक्नॉलजी, कम्प्यूटर, Internet और एजुकेशन से सम्बंधित जानकारी हिंदी में मिलती है

Articles: 38

Leave a Reply

Your email address will not be published.