About this website

Techcalculation एक हिंदी ब्लॉग है इस ब्लॉग पर आपको Computer, Internet, Mobile और अन्य सभी Technology के बारे में जानकारी हिंदी में मिलती है।

Firewall क्या है, कैसे काम करता है।

अगर आप कम्प्यूटर और internet इस्तेमाल करते है तो आपको पता होगा कि अपने कम्प्यूटर को सुरक्षत रखना कितना ज़रूरी होता है internet की दुनियाँ में साइबर हमलों, वाइरस, malware आदि से बचना बहुत ज़रूरी हो गया है और इसी सुरक्षा के लिए Firewall का बहुत बड़ा हाथ है तो आपने अपने कम्प्यूटर में या internet पर कभी न कभी Firewall का नाम ज़रूर सुना होगा। पर क्या आप जानते है कि आख़िर Firewall क्या है (Firewall in hindi) और इसका क्या काम होता है आज इस पोस्ट में हम Firewall के बारे में बात करेंगे कि Firewall kya hai और इसका काम क्या होता है।

Firewall kya hai – What is firewall

Firewall एक प्रकार की सुरक्षा होती है जो computers और Network को सुरक्षा प्रदान करती है। जैसा कि हम जानते है कि हमारे लिए सुरक्षा कितनी ज़रूरी है उसी प्रकार हमारे computers और Network के लिए भी सुरक्षा बहुत ज़्यादा ज़रूरी होती है। Firewall हमारे computers और network को घुसपेठियों, हैकर और malware से बचता है।

Firewall हमारे कम्प्यूटर और नेटवर्क को साइबर हमलों से बचती है साइबर हमलों में होने बाले किसी भी तरह के अटैक से साइबर अपराधी लोग कम्प्यूटर से पर्सनल data चुरा सकते है या किसी भी तरह का नुक़सान पहुँचा सकते है इन सब से बचने और netwaork को सुरक्षित करने के लिए Firewall का उपयोग किया जाता है। Firewall एक प्रकार का software होता है और firewall एक तरह का Hardware भी होता है। जिसका मुख्य काम होता है नेटवर्क में इनकमिंग और आउटगोइंग ट्रैफिक को स्कैन करना और सेट किए गए रूल के मुताबिक़ data का आदान प्रदान करना।

फ़ायरवॉल दो शब्दों से मिलकर बना है पहला Fire मतलब “आग”, दूसरा शब्द है wall मतलब “दीवार” अर्थात Firewall का मतलब हुआ “आग की दीवार” तो जब भी कोई वाइरस, malware या वो प्रोग्राम जो Rule को फ़ॉलो नहीं करते है और unethical way से कम्प्यूटर में घुसने की कोशिश करते है तो उसे सबसे पहले आग की दीवार का सामना करना पड़ता है और Firewall उन सभी प्रोग्राम या malware को कम्प्यूटर में आने से रोक देता है।

एक उदाहरण से समझते है जब भी हम अपने कम्प्यूटर पर Internet चलाते है यानी कि ब्राउज़िंग करना, Videos देखना, File download करना या किसी भी तरह का काम internet पर कर रहे होते है तो ऐसे में अलग-अलग सर्वर से Data हमारे कम्प्यूटर में आता है या यह भी कह सकते है कि अलग- अलग सर्वर से ट्रैफ़िक हमारे कम्प्यूटर तक आता है ऐसे में हो सकता है कि उस Data या ट्रैफ़िक के साथ कोई malware,वाइरस या Unwanted प्रोग्राम हमारे कम्प्यूटर में आ जाए पर Firewall किसी भी Unwanted programs को कम्प्यूटर में आने से रोक देता है।

फ़ायरवॉल कैसे काम करता है ?

जैसा कि हम जानते है कि फ़ायरवॉल Pre Defined Rule (पहले से निर्धारित नियम) पर काम करता है आपके नेटवर्क या कंप्यूटर की सुरक्षा के लिए विभिन्न तरीकों का उपयोग करता है।

पैकेट फ़िल्टरिंग

किसी भी network में आने जाने वाले Data या ट्रैफ़िक को एक पैकेट के रूप में व्यवस्थित किया जाता है जब फ़ायरवॉल पैकेट फ़िल्टरिंग का पालन करता है तो यह data के पैकेट की जाँच करता है और इसकी तुलना फ़िल्टर से करता है जिसमें किसी भी deta की पहचान करने के लिए पहले से जानकारी शामिल होती है जैसे कम्प्यूटर या network में आने वाला data पैकेट में कोई वाइरस या malware तो नहीं है। अगर इनकी पहचान हो जाती है तो वाइरस या संदिग्ध data बाले पैकेट को छोड़ दिया जाता है और सुरक्षित data को कम्प्यूटर के अंदर गुज़रने दिया जाता है।

Proxy (प्रॉक्सी)

इसकी मदद से Firewall Go-between यानी कि “बीच से जाना” का कार्य करता है मतलब आपका कम्प्यूटर और वह डिवाइस जो आपके कम्प्यूटर से कनेक्ट होना चाहते है। या कनेक्ट होने की कोशिश कर रहे है उन सभी डिवाइस के लिए फ़ायरवॉल Go-between के रूप में कार्य करता है। एक प्रॉक्सी फ़ायरवॉल आपके कंप्यूटर के दर्पण की तरह है जो unwanted कनेक्शन को डिटेक्ट करता है जो आपके कम्प्यूटर या डिवाइस से कनेक्ट होने का प्रयास कर रहे है।

आपके कम्प्यूटर और internet के बीच अलगाव करने के लिए प्रॉक्सी फायरवॉल एक सुरक्षित समाधान है। अक्सर साइबर हमलावरों को हमला करने के लिए आपके कम्प्यूटर से सीधे कनेक्ट होने की ज़रूरत होती है पर आपके internet और कम्प्यूटर के बीच एक प्रॉक्सी है तो हैकर्स हमारे कम्प्यूटर पर सीधे हमला नहीं कर सकता जिस से हमारा कम्प्यूटर सुरक्षित रहता है। Firewall kya hai अगर ये आपको समझ आ गया है तो अब बात करते है कि यह कितने प्रकार की होती है।

फ़ायरवॉल के प्रकार – Types of Firewall

सॉफ्टवेयर फ़ायरवॉल

सॉफ्टवेयर फ़ायरवॉल एक प्रोग्राम होता है। जो आपके ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे Windows 7, Win 8, Win 10, Linux, Mac Os आदि में पहले से इंस्टॉल होता है जो by default On होता है जिसका उपयोग कंप्यूटर द्वारा डिवाइस के अंदर और बाहर जाने वाले डेटा का निरीक्षण करने के लिए किया जाता है

इसके अलावा antivirus जैसे Avast, McAfee, Norton, QuickHeal आदि सभी antivirus में firewall मिलता है जिसका काम एक ही होता है कम्प्यूटर को सुरक्षा प्रदान करना।

जब भी हम अपने कम्प्यूटर पर कोई प्रोग्राम या Software इंस्टॉल करते है या फिर अपने कम्प्यूटर से किसी और डिवाइस को कनेक्ट करते है तो एक message मिलता है कि आपके कम्प्यूटर का Firewall On है, Firewall ऑफ़ करने के बाद ही हम किसी और डिवाइस से कनेक्ट हो सकते या कोई प्रोग्राम को यूज़ में ले सकते है।

कम्प्यूटर में Firewall को ऑफ़ करना बहुत आसान है आप Control Panel पर जा कर firewall को ऑफ़ कर सकते है

Firewall Mac os
Firewall Mac os

हार्डवेयर फ़ायरवॉल

एक हार्डवेयर फ़ायरवॉल एक तरह की डिवाइस होती है जो उस कंप्यूटर से स्वतंत्र रूप से काम करती है जिसकी वह सुरक्षा कर रहा है क्योंकि यह इंटरनेट से आने वाली सूचनाओं को सिस्टम में फ़िल्टर करता है। अगर आपके पास ब्रॉडबैंड इंटरनेट राउटर है तो हो सकता है कि आपके राउटर में पहले से फ़ायरवॉल की सुबिधा हो।

firewall cisco
cisco firewall

इसका काम भी कम्प्यूटर और network को सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है जब भी हम अपने कम्प्यूटर में internet कनेक्ट करते है तो हम कम्प्यूटर को सीधे internet से कनेक्ट नहीं करते है इसकी बजाय हम अपने कम्प्यूटर को Firewall device से कनेक्ट करते है और उस firewall डिवाइस को Internet से जोड़ देते है इस तरह से हमारा कम्प्यूटर सीधे Internet से कनेक्ट नहीं होता है। और जो भी Data tarffice send और receive होता है वह firewall hardware डिवाइस से होता है।

किसी भी Operating system में पहले से Firewall software install होता है जो कम्प्यूटर में Unwanted files आने से रोकता है पर Firewall Hardware device विशेष रूप से एक बड़े आर्गेनाइजेशन के नेटवर्क को सुरक्षति रखने के लिए किया जाता है। जिसमें बहुत सारे कम्प्यूटर और सर्वर एक साथ जुड़े हुए होते है। ऐसे आर्गेनाइजेशन जहाँ पर डाटा संवेदनशील होता है अगर ऐसे में किसी भी प्रकार का साइबर हमला हुआ तो आर्गेनाइजेशन में जितने कम्प्यूटर जुड़े हुए है सभी को बहुत नुक़सान हो सकता है इसलिए ऐसे जगहों पर हाई सिक्योरिटी की जरुरत होती है पर इतनी बड़ी सुरक्षा के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम की firewall काफ़ी नहीं है इस लिए एक Hardware Firewall की ज़रूरत होती है।

यह भी पढ़ें :-

साइबर अटैक क्या है?

साइबर सुरक्षा क्या है?

निष्कर्ष

आज इस पोस्ट में आपने Firwall के बारे में सीखा कि Firewall kya hai और किस तरह से हमारे कम्प्यूटर और netwaork को सुरक्षित करता है आसान शब्दों में Firwall एक तरह का security device है जो हमारे कम्प्यूटर और netwaork को internet पर होने वाले हमलों या किसी भी तरह के malware से सुरक्षा प्रदान करता है अगर आपको यह पोस्ट पसंद आयी तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर ज़रूर कीजिए।

lalit kushwaha
lalit kushwaha

Hello दोस्तों मेरा नाम ललित कुशवाह है में इस ब्लॉग का Admin और Author हूँ मुझे टेक्नॉलजी के बारे में पढ़ना और दूसरे लोगों को उसके बारे में बताना अच्छा लगता है इसलिए में इस ब्लॉग के माध्यम से आप सब लोगों को टेक्नॉलजी से सम्बंधित जानकारी हिंदी भाषा में देता हूँ। मुझे उम्मीद है की आप मुझे सपोर्ट करेंगे।

Articles: 10

Leave a Reply

Your email address will not be published.