About this website

Techcalculation एक हिंदी ब्लॉग है इस ब्लॉग पर आपको Computer, Internet, Mobile और अन्य सभी Technology के बारे में जानकारी हिंदी में मिलती है।

IPv4 क्या है Internet Protocol version 4 हिन्दी में

अगर आप Smart phone या Computer चलाते है तो आपने IP के बारे में जरूर सुना होगा और साथ ही आपने IPv4 और IPv6 के बारे में भी सुना होगा । Smart फोन हो या Computer या कोई ऐसी Device जिसमें Internet connect किया जा सके उन सभी Devices में IP address होता है तो आज इस post में हम जानने वाले है कि IP address क्या होता है ।

IPv4

तो सबसे पहले हम ये जान लेते है कि IP को हम Internet protocol कहते है और IPv4 Internet protocol version 4 कहते है इसे हम विस्तार से समझते है । तो सबसे पहले हम समझते है कि IP Address क्या होता है । IP address किसी भी Device का address होता है । IP Address से ही किसी भी Device को Internet की दुनिया में एक अलग पहचान मिलती है । और यह IP Address प्रत्येक computer या smart phone या किसी अन्य device के लिए अलग- अलग होता है । बिना IP Address के हम एक Device से दूसरी Device को Connect नहीं कर सकते है या फिर उस Device को हम Internet से Connect नहीं कर सकते है जब भी हम Internet से कोई भी File download करते है तो मेरे Computer का एक address होता है । जिससे Internet पर अन्य Computer मेरे Computer की IP Address से connectivity कर सकते है

अगर इसे सामान्य भाषा में समझा जाए तो अगर कोई व्यक्ति हमें post के जरिये कोई पत्र या gift भेजना चाहता है तो उसे हमारे घर का पता मालूम होता है और वह उसी पते पर हमें कुछ भी भेज सकता है।

IPv4 क्या है

IPv4 को हम Internet Protocol Version 4 भी कहते है पर IPv4 को समझने से पहले हम यह जानते है की Internet Protocol क्या होता है । Protocol एक Set of rules होता है और उन्हीं Rules को follow कर के Network या Internet पर Data travel करता है। चलिये अब बात करते है IPv4 के बारे में IPv4 को हम Logical address भी कहते है और यह 32 bit का Address होता है वैसे हम IP address को decimal numbers में लिखते है पर अगर हम इसे binary में निकालते है तो यह 32 bit का बनाता है। इसमें 4 octet होते है । जैसे यहाँ आप एक IP देखिये 192.168.100.1 इसमें प्रत्येक octet को डॉट (.) लगा कर अलग-अलग लिखा गया है। और प्रत्येक octet 8 bit का होता है और प्रत्येक octet value 0 से लेकर 255 तक होती है। IP address Network ID और Host ID से मिलकर बनाता है और IP address को हम दो भागों में बांटते है Public IP और Private IP इसके अलावा IP address को Class के आधार पर भी विभाजित किया जाता है

IPv4 में Public IP और Private IP क्या है ।

Private IP:- सबसे पहले हम बात करते है Private IP के बारे में Private IP का use Personal network को Configure करने के लिए किया जाता है या फिर यह कहें की Local Area Network के लिए Private IP का use किया जाता है वह Organization जो Internet से Connect नहीं होना चाहते पर खुद का एक Network बनाना चाहते है वह Private IP का उपयोग करते है । Private IP का इस्तेमाल आप अपने घर या ऑफिस में लगे Devices को आपस में Connect करने के लिए करते है और यह private IP IANA (Internet Assigned Numbers Authority) द्वारा Free में उपयोग करने के लिए दी जाती है।

Private IP Range: –

Class A IP 10.0.0.0 से लेकर 10.255.255.255 तक।

Class B IP 172.16.0.0 से लेकर 172.31.255.255 तक।

Class C IP 192.168.0.0 से लेकर 192.168.255.255 तक।

Public IP:- Public IP का इस्तेमाल Local area network के बाहर किया जाता है मतलब जब हम Internet से connect होते है तो Public IP से Connect होते है जिसे ISP द्वारा assign किया जाता है । public IP को IP IANA (Internet Assigned Numbers Authority) द्वारा खरीद कर उपयोग किया जाता है ।

IP Class कितनी होती है।

IP address को हम 5 class में बांटते है और प्रत्येक class के एक Range होती है तो चलिये देखते है IP address को कोन-कोन सी class में बांटा गया है

सबसे पहली Class A है जिसमें 1.0.0.0 से लेकर 126.255.255.255 तक IP होती है ।

दूसरी Class B है जिसमें 128.0.0.0 से लेकर 191.255.255.255 तक IP होती है ।

तीसरी Class C है जिसमें 192.0.0.0 से लेकर 223.255.255.255 तक IP होती है ।

चौथी Class D है जिसमें 224.0.0.0 से लेकर 239.255.255.255 तक IP होती है ।

पाँचवीं Class E है जिसमें 240.0.0.0 से लेकर 254.255.255.255 तक IP होती है ।

अब हम यह जानते है की हम इन पाँच Class में बांटी गई IP को कहाँ-कहाँ और कैसे उपयोग करते है तो अगर आप किसी कंपनी के लिए बड़ा Network बनाना चाहते है तो आप Class A की IP का उपयोग कर सकते है और अगर आप कोई छोटा Network बना रहे है तो आप Class C की IP को उपयोग कर सकते है और साथ ही आपके मन में यह सवाल आया होगा कि Class A कि IP 1.0.0.0 से लेकर 126.255.255.255 तक चली और Class B की IP 128.0.0.0 से शुरू हुई है तो Class A में 127 बाली IP कहाँ गई तो हमें यह याद रखना है की Class A की 127.0.0.0 से ले कर 127.255.255.255 तक की IP Loop back testing के लिए Reserved रहती है इसे हम अपने Network में उपयोग नहीं कर सकते है । और इसके साथ-साथ Class D की IP Multi-tasking के लिए Reserved होती है और Class E की IP Experimental के लिए उपयोग करते है ।

IP class कैसे पहचानें

अभी हम समझ चुके है की IP क्या होता है और IP की कोन-कोन सी Class होती है पर हम कैसे पहचान करें की यह कोन सी class की IP है।  IP की class पहचानने के लिए हम IP के सबसे पहले octet को देखते है जैसे IP 135.100.1.1 की हमें Class पता करना है तो हम जानते है की इसके पहले Octet में 135 आया है और यह Class B की IP है क्यूकी Class B की IP 128.0.0.0 से लेकर 191.255.255.255 तक होती है । इसी तरह से हम किसी भी IP की Class पहचान कर सकते है ।

Network ID और Host ID क्या है और कैसे पहचानें।

किसी भी IP की Network ID ये यह पता चलता है की यह IP किस Network से जुड़ी है जैसे मान लीजिये आप किसी Organization के लिए Networking कर रहे है और हमने उस Network में किसी एक Commuter में यह IP डाली है “192.168.100.1” तो इस IP में पहले तीन Octet Network ID है तो इस IP की Network ID 192.168.100.0 होगी । और last का एक Octet Host ID है जिसे हम 0 से लेकर 255 तक कर सकते है । क्यूकी Class C में पहले 3 octet Network के लिए Reserved रहते है और last का एक octet Host के लिए Reserved होता है। और इसी तरह अगर हम same Organization के लिए दूसरे Network के लिए Networking करेंगे तो अब हमें Network ID change करनी होगी और दूसरे Network के लिए 192.168.101.0 Network ID assign कर सकते है। इससे हमें यह पता चलता ही की यह IP कोन से Network के लिए assign है। और यहाँ हम Network ID को 1 से Represent करते है और Host को 0 से represent करते है । अब बात करते है कि किस Class में कितने Network और Host होते है। तो Class A में पहला Octet Network के लिए Reserved होता है और बाकी 3 octet host के लिए Reserved होते है (N.H.H.H), Class B में पहले दो Octet Network के लिए Reserved होता है और बाकी दो octet host के लिए Reserved होते है (N.N.H.H), Class C में पहले 3 Octet Network के लिए Reserved होता है और बाकी एक octet host के लिए Reserved होता है। (N.N.N.H)

Subnet Mask क्या है और कैसे निकालते है।

Subnet Mask का काम यह Identify करना होता है कि assign की गई IP Address में कोन सा हिस्सा Network address है और कोन सा हिस्सा Host address है । जैसे उदाहरण के लिए एक IP लेते है “10.1.123.13” अब हमें यह पता है कि यह Class A का IP Address है और Class A में पहला Octet Network के लिए Reserved होता है। (N.H.H.H) और हम Network को 1 से represent करते है। और Host को 0 से। और हमें पता है एक Octet 8 bit का होता है और ऊपर दी गई IP के पहले Octet की 8 bit को On करके लिखने पर (11111111) यह Binary number बन जाता है और इस Binary number को Decimal में बदलने पर हमें 255 मिलता है। तो इस IP का subnet mask 255.0.0.0 होगा। इसी तरह हम Class B की कोई भी IP का subnet mask निकाल सकते है Class B में पहले दो Octet Network के लिए Reserved रहते है तो हम दोनों Octet के 8-8 bit को on कर देंगे और इसका subnet mask 255.255.0.0 होगा।

IPv6 क्या है।

मुझे पूरी आशा है कि आप लोगों IP Address IPv4 के बारे में समझ आ गया होगा । अगर आपको यह Post अच्छी लगी तो आप सभी से गुजारिश है कि आप लोग इस जानकारी को अपने दोस्तों, रिश्तेदारों, के साथ share करें , जिससे कि हमारे बीच जागरूकता होगी और ज्ञान बढ़ेगा । अगर आप लोगों को किसी भी तरह का Doubt है तो आप मुझे बेझिजक comment कर के पूछ सकते है । में पूरी कोशिश करूंगा कि आपके सवाल का जवाब दे सकूँ । और इस post को पूरा पढ़ने के लिए धन्यवाद ।  

Techcalculation
Techcalculation

Techcalculation.com एक हिंदी ब्लॉग है इस ब्लॉग पर आपको टेक्नॉलजी, कम्प्यूटर, Internet और एजुकेशन से सम्बंधित जानकारी हिंदी में मिलती है

Articles: 38

Leave a Reply

Your email address will not be published.