About this website

Techcalculation एक हिंदी ब्लॉग है इस ब्लॉग पर आपको Computer, Internet, Mobile और अन्य सभी Technology के बारे में जानकारी हिंदी में मिलती है।

IPv6 क्या है Internet Protocol version 6 हिन्दी में

IPv6 क्या है

Internet Protocol Version 4 (IPv4) के बाद Internet Protocol Version 6 (IPv6) को Internet Engineering Task Force द्वारा विकसित किया गया था । IPv4 के खत्म होने की समस्या के कारण IPv6 को लॉंच किया गया था। तो चलिए जानते है IPv6 क्या होता है और कैसा होता है ।

IPv6

IPv4 क्या होता है।

IPv6 128 bits का होता है और इसमें 8 segments होते है। और इसे Hexadecimal value में लिखा जाता है। Hexadecimal में 16 variables होते है “0,1,2,3,4,5,6,7,8,9,A,B,C,D,E,F” Hexadecimal 10,11,12,13,14,15 को A,B,C,D,E,F से denote किया जाता है। जिस तरह से IPv4 में एक Octet 8 bit का होता है इसी तरह IPv6 में हर segments 16 bits का होता है। IPv6 की सबसे बड़ी खामी है है कि यह IPv4 के साथ Direct Communicate नहीं कर सकता है। IPv6 में IPv4 की तरह कोई Class नहीं होती है। पर IPv6 में तीन एड्रेसिंग मोड होते हैं।

1. Unicast

2. Multicast

3. Anycast

IPv6 के प्रकार

Unicast:

Unicast address one to one communication के लिए Use होता है इसमें हम एक computer से दूसरे Computer के बीच communication कराने के लिए use करते है। या फिर कहें कि एक Host दूसरे Host के साथ Communicate कर सकता है। इसकी Range 2000::/16 से शुरू होती है।

Multicast:

Multicast IP address को One to Many communication के लिए use किया जाता है। जैसे हमें कोई Information सभी को भेजनी है तो हम Multicast IP से वह Information एक समय में सभी Host को दिखा सकते है । जैसे हम कोई Live event कर रहे है और उस event को Multicast IP के जरिये सभी लोग अपनी- अपनी Devices पर एक साथ देख सकते है। Multicast IP की range ff00::/8 (In Binary)1111 1111 से शुरू होती है अगर इसे Hexadecimal में Convert किया जाये तो यह ff होता है तो अगर कोई भी IP ff से शुरू होती है तो वह Multicast IP address है ।

Anycast:

Anycast address में कई systems या servers को एक ही IP provide की जाती है। और जब भी हम किसी computer से Packets या Request send करते है तो जो भी server हमारी Location के नजदीक होता है Anycast IP उस server से Communicate कर लेता है। जैसे मान लीजिये आप India में किसी Website को access कर रहे है और उस Website का sever India, UK, US, China में स्थित है और सभी server की IP same है तो जहां Host और Server के बीच की दूरी सबसे कम होगी तो Communication भी उसी server से होगा। अगर हम India में website को access कर रहे है तो India के server से Communication होगा क्यूकी India में रखा सर्वर Host के नजदीक है। Anycast address की कोई Range नहीं होती है हम Unicast IP को अनेक server में डाल कर उसे Anycast बना सकते है।

IPv6 कैसे लिखा जाता है।

IPv6 लिखने के कुछ Rules होते है जो हमने ध्यान रखने होते है। तो चलिये देखते है IPv6 कैसे लिखते है ।

सबसे पहले हमें पता है कि IPv6 में 8 Segments होते है और हर Segments को Colon sign (:) से separate करके लिखा जाता है। और हर Segments में 4 value होती है।

IPv6 20a8:09b4:3838:abe1:6278:f23a:aaac:44a5

Rule- 1.

IPv6 लिखने का सबसे पहला Rule है की IP में अगर 2 या 2 से अधिक बार लगातार 0 (Zero) आने पर आप 0000 बाले Segments की जगह पर Double Colon (::) का use कर सकते है ।

20a8:09b4:3838:0000:0000:f23a:aaac:44a5

तो इस IP में चौथे और पांचवें segments में लगातार 0000 आया है इस लिए हम इस IP को इस तरह लिख सकते है

20a8:09b4:3838::f23a:aaac:44a5

अगर इस IP में अगर लगातार 3 segments में 0000 आता है तो भी हम Double Colon (::) का use करते है ।

20a8:09b4:3838:0000:0000:0000:aaac:44a5

तो अब इस IP को हम इस तरह से लिख सकते है ।

20a8:09b4:3838::aaac:44a5

अब सवाल यह आता है की लगातार 2 बार 0000 आने पर हमने Double colon का use किया था और लगातार 3 बार 0000 आने पर भी हमने Double colon का use किया था क्यूकी हमें पता है की IPv6 में 8 segments होते है तो Double Colon देख कर हम यह पता लगा सकते है कि कितनी segments में 0000 लगा कर हम 8 segments पूरे कर सकते है जैसे उदाहरण के लिए यह एक IP है 20a8::44a5  इस IP में हमें दो Segments दिख रहें है और Double Colon की जगह हर segments में 0000 लगा कर हमें 8 segments को पूरा करना होगा।

20a8:0000:0000:0000:0000:0000:0000:44a5

Rule- 2.

“20a8:0000:0000:3838:0000:0000:0000:44a5” अब इस IP में दूसरे और तीसरे Segments में लगातार दो बार 0 बाला segments है और segment 5,6,7 में भी तीन बार लगातार 0 है। तो rule number 2 के हिसाब से एक IP में हम 2 बार Double Colon का इस्तेमाल नहीं कर सकते है। हम Double Colon का use वहाँ Use करेंगे जहां 0000 बाले Segments सबसे ज्यादा है। और इस तरह की IP को इस तरह Short में लिखा जाएगा।  “20a8:0000:0000:3838::44a5”

Rule- 3.

इस rule में IPv6 में से Leading zeroes को हटाया जाता है Leading Zeroes वह होते है जो किसी भी Value से पहले लगे होते है जैसे इस IP में देखिये “20a8:09b4:3838:abe1:0008:f23a:00ac:44a5” तो इस IP को short में लिखने पर हम इसे इस तरह से लिख सकते है “20a8:9b4:3838:abe1:8:f23a:ac:44a5” क्यूकी हमें पता है की IPv6 के हर segment में 4 value होती है और जहां भी हमें 4 value से कम देखते है तो हम मान सकते है की उस value के पहले 0 लगा है।

Rule- 4.

अगर हमें एक ऐसी IP मिलती है जहां 2 Segment में लगातार 0000 आने पर Double Colon इस्तेमाल कर सकते है पर same value किसी और Segments भी है जैसे। “20a8:0000:0000:abe1:6278:0000:0000:44a5” इस Case में हम Double Colon कहाँ use करेंगे और Rule number 2 के अनुसार एक IP में हम 2 बार Double Colon का इस्तेमाल नहीं कर सकते है। तो ऐसे Case में हम Double colon का इस्तेमाल left side वाले Segment को हटाने के लिए करते है जैसे “20a8::abe1:6278:0000:0000:44a5” और अब बचे हुये दो segments के zeroes को हटाने के लिए Rule number 3 के हिसाब से हम इस IP से Leading zeroes को remove कर देंगे “20a8::abe1:6278:0:0:44a5”

मुझे पूरी आशा है कि आप लोगों IPv6 के बारे में समझ आ गया होगा । अगर आपको यह Post अच्छी लगी तो आप सभी से गुजारिश है कि आप लोग इस जानकारी को अपने दोस्तों, रिश्तेदारों, के साथ share करें , जिससे कि हमारे बीच जागरूकता होगी और ज्ञान बढ़ेगा । अगर आप लोगों को किसी भी तरह का Doubt है तो आप मुझे बेझिजक comment कर के पूछ सकते है । में पूरी कोशिश करूंगा कि आपके सवाल का जवाब दे सकूँ । और इस post को पूरा पढ़ने के लिए धन्यवाद ।  

Techcalculation
Techcalculation

Techcalculation.com एक हिंदी ब्लॉग है इस ब्लॉग पर आपको टेक्नॉलजी, कम्प्यूटर, Internet और एजुकेशन से सम्बंधित जानकारी हिंदी में मिलती है

Articles: 38

Leave a Reply

Your email address will not be published.