वेबसाइट क्या है? इसकी परिभाषा, प्रकार, इतिहास और फायदे

वेबसाइट क्या है? आज की दुनिया में बहुत सारे बदलाव हो चुके हैं। पहले मोबाइल फ़ोन, कंप्यूटर, इंटरनेट इत्यादि कुछ भी नहीं था। शायद उस समय की दुनिया बेहतर थी। लेकिन आज हमारी पूरी दिनचर्या इन उपकरणों में ही बितती है। आज हम मोबाइल या कंप्यूटर की मदद से लगभग सभी काम कर सकते हैं। किसी भी कार्य को ऑनलाइन करने के लिए हमें ऐप और वेबसाइट की आवश्यकता होती है। यह ऑनलाइन इंटरफ़ेस प्रदान करती हैं। इंटरनेट की सहायता से हम वीडियो देख सकते हैं, गाने सुन सकते हैं, बातचीत कर सकते हैं, वीडियो कॉल कर सकते हैं, मोबाइल रिचार्ज कर सकते हैं और बहुत कुछ कर सकते हैं।

आपने देखा होगा कि ये सभी काम हम किसी ऐप में या फिर किसी वेबसाइट से करते हैं। लेकिन कितने लोगों को ऐप और वेबसाइट की वास्तविकता का पता है। ऐप का पूरा नाम ऐप्लिकेशन होता है। यह सॉफ़्टवेयर का एक रूप है। ऐप्लिकेशन के विस्तृत जानकारी कोई अन्य लेख में देख सकते हैं। इस लेख में हमने वेबसाइट के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की है। क्या आपको पता है कि वेबसाइट क्या होती है? आप वेबसाइट से क्या समझते हैं? आजकल लगभग सभी कार्य ऑनलाइन वेबसाइट के माध्यम से ही किए जाते हैं। प्रत्येक कार्य के लिए अलग-अलग वेबसाइट होती है।

लेकिन बहुत सारे लोगों को वेबसाइट के बारे में ज्ञान नहीं होता। इसलिए हमने यह लेख लिखा है। इस लेख में वेबसाइट की पूरी जानकारी दी गई है। इसमें बताया गया है कि वेबसाइट क्या है, वेबसाइट की परिभाषा, वेबसाइट कैसे काम करती है, वेबसाइट कैसे बनती है, वेबसाइट के प्रकार, वेबसाइट का इतिहास, वेबसाइट के नाम, वेबसाइट के फायदे और बहुत कुछ। तो चलिए सबसे पहले जानते हैं कि वेबसाइट क्या है और इसकी परिभाषा क्या है।

Table of Contents

वेबसाइट क्या है? (What is Website in Hindi)

वेबसाइट एक वेबपेजों का समूह होता है। वेबपेज को हाइपरटेक्स्ट मार्कअप भाषा में लिखा जाता है। यह किसी ऐसे कंप्यूटर पर संग्रहित या होस्ट किया जाता है, जो 24 घंटे इंटरनेट से जुड़ा होता है। इससे वेबसाइट को किसी भी समय इंटरनेट के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है। आमतौर पर ऐसे कंप्यूटर को वेब सर्वर के रूप में जाना जाता है। वेबसाइट को पहचानने के लिए डोमेन नाम का उपयोग किया जाता है। डोमेन नाम वेबसाइट का पता भी करता है।

यानि प्रत्येक वेबसाइट का अलग-अलग (यूनिक) डोमेन नाम होता है। इसकी सहायता से हम उस वेबसाइट पर जा सकते हैं और उसे देख सकते हैं। उदाहरण के तौर पर; google.com, facebook.com और wikipedia.org आदि। लगभग सभी वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू का उपयोग करती है। हालांकि कुछ निजी वेबसाइटें भी होती हैं। जिन्हें केवल निजी नेटवर्क में एक्सेस किया जाता है। वेबसाइट आमतौर पर किसी विशेष उद्देश्य जैसे समाचार, शिक्षा, व्यापार, मनोरंजन और सामाजिक नेटवर्क के लिए बनाई जाती है।

आमतौर पर वेबपेज में हाइपरलिंक्स या टेक्स्टलिंक्स भी होती हैं। जो नेविगेशन का कार्य करती हैं। इसकी सहायता से एक वेबसाइट से दूसरे वेबपेज तक पहुंचा जा सकता है। वेबसाइट तक हम कंप्यूटर, लैपटॉप, टैबलेट और स्मार्टफोन जैसे कई उपकरणों की सहायता से पहुंच सकते हैं। इन उपकरणों की सहायता से वेबसाइट तक पहुंचने के लिए एक विशेष सॉफ़्टवेयर का उपयोग किया जाता है। जिसे वेब ब्राउज़र कहते हैं। वेब ब्राउज़र के उदाहरण निम्न हैं; Chrome, Opera Mini, UC Browser आदि।

यह भी पढ़ें:-

Cyber security क्या है ?

Software क्या होते है?

वेबसाइट की परिभाषा (Definition of Website in Hindi)

वेबसाइट एक हिंदी में ‘वेबपेजों का समूह’ कहलाती है। इसमें किसी व्यक्ति, कंपनी, संस्था, सरकार या संगठन द्वारा ऑनलाइन जानकारी प्रदान की जाती है। यह जानकारी टेक्स्ट, हाइपरलिंक्स और इमेज जैसे कई मल्टीमीडिया फ़ाइल्स की शक्ति से संगठित होती है।

इंटरनेट पर हम कई वेबपेज देखते हैं, लेकिन वे सभी वेबसाइट नहीं होतीं, वेबसाइट का एक हिस्सा होती हैं। यहां पर कई भाग एक ही वेबसाइट में शामिल हो सकते हैं, जैसे आप जो पृष्ठ इस लेख को पढ़ रहे हैं, वह भी एक वेबपेज हैं, अर्थात एक वेबसाइट का हिस्सा। इस वेबसाइट का नाम gyanveda.in हैं और इसमें कई वेबपेज आते हैं। आमतौर पर, किसी वेबसाइट को उसके डोमेन नाम से निर्दिष्ट किया जाता है, जैसे google.com, facebook.com, wikipedia.org इत्यादि।

वेबपेज को URL से निर्दिष्ट किया जाता है। यदि इस वेबसाइट का नाम gyanveda.in है, तो आप जो पृष्ठ इस लेख को पढ़ रहे हैं, उसका URL शायद इस तरह होगा: gyanveda.in/website-kya-hai/ आप इसे अपने ब्राउज़र में खोल कर देख सकते हैं।

वेबसाइट कैसे काम करती है? (How Websites Work in Hindi)

वेबसाइट कैसे काम करती है? इससे पहले कि हम इस विषय पर चर्चा करें, फिर से बता दें कि वेबसाइट वेबपेजों का संग्रह होती हैं, जिन्हें HTML, CSS और JavaScript जैसी भाषाओं का उपयोग करके बनाया जाता है। इंटरनेट पर हम जिन भी वेबसाइट को देखते हैं, वे सभी इनी भाषाओं से बनी होती हैं। जब इन भाषाओं का उपयोग करके वेबपेज या पूरी वेबसाइट का डिज़ाइन तैयार कर दिया जाता है, तो इसका कोड ऑनलाइन होता है, ताकि कोई भी इसे देख सके। इसके लिए इस कोड को वेबसर्वर पर स्टोर किया जाता है, और उस सर्वर को डोमेन नाम से लिंक किया जाता है।

वेबसाइट तक पहुंचने के लिए वेब ब्राउज़र का उपयोग होता है। जब हम वेब ब्राउज़र में वेबसाइट के डोमेन को सर्च करते हैं, तो वेब ब्राउज़र कुछ मानकों के अनुसार उस सर्वर से कोड प्राप्त करता है। यह कोड सामान्यतः ग्राफिक्स में बदल कर दिखाया जाता है। इस तरह हम वेबसाइट देखते हैं और सभी कार्य सर्वर और वेब ब्राउज़र के बीच होते रहते हैं।

वेबसाइट कैसे बनाई जाती है? (How to Make a Website in Hindi)

वेबसाइट बनाने के लिए सबसे पहले आपको उसके डिज़ाइन को तैयार करना होगा। यदि आप डिज़ाइन कर सकते हैं, तो आप इसे करें, अन्यथा किसी वेब डिज़ाइनर से अपनी वेबसाइट का डिज़ाइन करवा सकते हैं। आपको एक डोमेन नाम और एक वेब सर्वर खरीदने की आवश्यकता होगी। इन दोनों को आपस में लिंक करें और वेबसाइट का कोड सर्वर पर स्टोर कर दीजिए। इससे आपकी वेबसाइट तैयार हो जाती है।

हालांकि यह एक कठिन प्रक्रिया हो सकती है, क्योंकि आपको कोडिंग की जानकारी की आवश्यकता होती है। लेकिन आजकल ऐसे कई प्लेटफ़ॉर्म हैं उपलब्ध, जहां आप कोडिंग के बिना वेबसाइट बना सकते हैं। सबसे आसान प्लेटफ़ॉर्म ब्लॉगर है, जिससे आप मुफ़्त में वेबसाइट बना सकते हैं। हालांकि, इससे वेबसाइट की दिखावट में थोड़ी कमज़ोरी होती है। WordPress सबसे अच्छा प्लेटफ़ॉर्म है और अधिकांश वेबसाइटें इसे ही उपयोग करके बनाई जाती हैं। यह मुफ़्त नहीं होता है, इसके लिए आपको होस्टिंग (सर्वर) और डोमेन नाम रजिस्टर करने की आवश्यकता होगी और उन्हें आपस में लिंक करना होगा।

इसके बाद, होस्टिंग में WordPress सॉफ़्टवेयर को स्थापित कर देना होता है। इसके बाद, आपकी वेबसाइट तैयार हो जाती है। आप अपनी वेबसाइट में लॉगिन करके अपने हिसाब से बदलाव कर सकते हैं। WordPress के बिना वेबसाइट बनाने के लिए आपको कहीं कोडिंग की जानकारी की आवश्यकता नहीं होगी, बल्कि आप इसे वीडियो देखकर या ट्यूटोरियल पढ़कर बना सकते हैं।

वेबसाइट के प्रकार (Types of Website in Hindi)

इंटरनेट पर कई प्रकार की वेबसाइटें होती हैं, जो अलग-अलग कार्यों के लिए उपयोग होती हैं। कुछ वेबसाइटें सेवाएं प्रदान करती हैं, और कुछ वेबसाइटें जानकारी प्रदान करती हैं। इसी तरह, कई प्रकार की वेबसाइटें होती हैं। चलिए, हम वेबसाइट के मुख्य प्रकारों के बारे में जानते हैं।

1. Static website:

एक स्टैटिक वेबसाइट वह वेबसाइट होती है जिसमें सामग्री निश्चित होती है और जो इंटरनेट पर बिना किसी बदलाव या गतिशीलता के प्रदर्शित की जाती है। इस प्रकार की वेबसाइट के उदाहरण एक कंपनी की सामग्री, उत्पाद सूची या सरकारी वेबसाइट हो सकते हैं। यह सामग्री आमतौर पर बदलती नहीं होती है और उपयोगकर्ताओं को ज्यादातर स्थिर जानकारी प्रदान करती है।

2. Dynamic Website:

डायनामिक वेबसाइट विभिन्न Elements और डेटाबेस के साथ बनाई जाती है और जिसकी सामग्री उपयोगकर्ताओं के अनुरोध और प्रवेश के आधार पर प्रदर्शित होती है। यह वेबसाइट उपयोगकर्ताओं को व्यक्तिगत जानकारी प्रदान करने और उनके अनुरोधों के आधार पर देखने की सुविधा प्रदान करती है। इस प्रकार की वेबसाइटों में ब्लॉग, ई-कॉमर्स पोर्टल, सोशल मीडिया, फोरम, और ऑनलाइन सेवाएं शामिल हो सकती हैं।

3. व्यापारिक वेबसाइटें (Business websites)

व्यापार के उद्देश्य से बनाई गई वेबसाइट को व्यापारिक वेबसाइट कहा जाता है। आजकल हर कंपनी और व्यापार अपनी वेबसाइट बना रहे हैं, जिसमें कंपनी का नाम, सेवाएं, उत्पाद, हमारे बारे में, हमसे संपर्क करें और होमपेज जैसी जानकारी होती है।

4. सर्च वेबसाइटें (search websites)

ऐसी वेबसाइटें जिनका उपयोग इंटरनेट पर उपलब्ध जानकारी की खोज के लिए किया जाता है। ये वेबसाइटें सर्च इंजन या सर्च वेबसाइट की श्रेणी में आती हैं। शायद आप भी सर्च इंजन पर सर्च करके इस लेख तक आए होंगे। सर्च वेबसाइट का कार्य होता है कि वे प्रयोगकर्ता को संबंधित और सर्वश्रेष्ठ परिणाम दिखाते हैं। क्योंकि इन वेबसाइटों के पास पहले से ही उसे डेटाबेस होता है, जिसे वे खोज परिणामों में प्रदर्शित करते हैं। Google सबसे अच्छा सर्च इंजन या सर्च वेबसाइट है।

5. ई-कॉमर्स वेबसाइटें (e-commerce websites)

वह वेबसाइट जो वस्तुओं, उत्पादों या सेवाओं की ऑनलाइन खरीद-बिक्री करती है, उसे ई-कॉमर्स वेबसाइट कहा जाता है। आजकल बहुत सी ई-कॉमर्स वेबसाइटें हैं जहां आप ऑनलाइन खरीदारी कर सकते हैं और उत्पादों को घर पर डिलीवर करवा सकते हैं। उदाहरण के लिए, अमेज़ॉन, फ्लिपकार्ट, एबे और वैलयू के ई-कॉमर्स वेबसाइटें प्रसिद्ध हैं।

6. ब्लॉग्स (blogs)

वह वेबसाइट जो स्वतंत्र लेखों, टिप्स, रचनाओं, जानकारी या मनोरंजन के लिए बनाई जाती है, उसे ब्लॉग कहा जाता है। ब्लॉग एक नया ब्यूज़नेस और रोज़गार आयोजन भी है और इसे लोग खासकर व्यक्तिगत उद्देश्यों के लिए बनाते हैं। ये आमतौर पर किसी व्यक्ति द्वारा लिखे जाते हैं और इंटरनेट पर दूसरे लोगों तक पहुंचाए जाते हैं।

7. फोरम वेबसाइटें (Forum Websites)

फोरम वेबसाइट एक वेबसाइट का एक खंड होता है जहां आपस में बातचीत करने के लिए कम्युनिटी प्रदान की जाती है। फोरम वेबसाइट में बातचीत या पोस्ट करने के लिए एक खाता बनाने की आवश्यकता होती है।

8. व्यक्तिगत वेबसाइटें (personal websites)

व्यक्तिगत वेबसाइट भी एक प्रकार की वेबसाइट होती है जो किसी व्यक्ति द्वारा खुद से संबंधित सामग्री प्रदान करती है, कंपनी, संगठन या संस्थान के बजाय। अधिकांश पेशेवर लोग अपनी व्यक्तिगत वेबसाइट बनाते हैं।

9. जानकारीपूर्ण वेबसाइटें (informative websites)

इंटरनेट का मुख्य उपयोग संचार और जानकारी खोज के लिए किया जाता है। जानकारी खोज करने में जानकारीपूर्ण वेबसाइट का महत्वपूर्ण योगदान होता है। जो वेबसाइट जानकारी प्रदान करने का उद्देश्य रखती है। इसे जानकारीपूर्ण वेबसाइट कहा जाता है। इनका केवल एक ही उद्देश्य होता है, और वह है लोगों को जानकारी प्रदान करना।

10. सरकारी वेबसाइट (Government website)

स्थानीय, क्षेत्रीय, राष्ट्रीय या अंतर्राष्ट्रीय सरकार के लिए बनाई और डिज़ाइन की गई एक प्रकार की वेबसाइट होती है। जिसका उद्देश्य सरकारी आंकड़े, तथ्य और सूचनाएं सदस्यों को न्यायसंगत और निष्पक्ष बनाए रखना होता है।

11. ब्लॉग और डायरी वेबसाइटें (Blog and Diary Websites)

ब्लॉग या वेबलॉग एक तरह की जानकारीपूर्ण या चर्चा वेबसाइट होती है जिसमें अलग-अलग डायरी-शैली की पोस्टें होती हैं। जो आमतौर पर उलटे क्रम में प्रदर्शित होती हैं। आजकल ब्लॉग या व्यक्तिगत वेबसाइट बनाना कोई बड़ी बात नहीं है। अब आप Blogger और Wix जैसे प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करके मुफ्त में ब्लॉग और व्यक्तिगत वेबसाइट बना सकते हैं। यदि आपको डायरी लिखना पसंद है, तो विचार करें कि आप इसे ऑनलाइन करें। जहां आप अपने मन के कुछ भी लिख सकते हैं, प्रकाशित कर सकते हैं और इससे आप पैसे भी कमा सकते हैं।

12. समाचार वेबसाइटें (News websites)

समाचार वेबसाइट एक समाचारपत्र का ऑनलाइन संस्करण होता है। इसे किसी व्यक्ति या किसी पत्रिका का ऑनलाइन संस्करण प्रकाशित करने के लिए उपयोग किया जाता है। समाचार के ऑनलाइन संस्करण से अधिक अवसर पैदा होते हैं, जैसे कि पत्रकारिता के साथ ब्रेकिंग न्यूज़ की प्रतियोगिता करने के लिए।

13. सोशल वेबसाइटें (social websites)

सोशल वेबसाइट एक प्रकार की कम्युनिटी वेबसाइट होती है जिसका उद्देश्य लोगों को वर्ल्ड वाइड वेब के माध्यम से जोड़ना होता है। सोशल वेबसाइट का सर्वोत्तम उदाहरण फेसबुक और ट्विटर है। इसके माध्यम से हम ऑनलाइन अपने दोस्तों और परिजनों से जुड़ सकते हैं, उनसे बात कर सकते हैं और कई तरीकों से कनेक्टेड रहने का विकल्प होता है। आजकल, जब भी कोई इंटरनेट से जुड़ा हुआ होता है, वह सोशल वेबसाइट्स पर भी नियमित रूप से सक्रिय रहता है। आजकाल, एक आम व्यक्ति लगभग 2 घंटे सोशल वेबसाइट्स पर बिताता है। सर्च इंजन दुनिया में प्रमुख वेबसाइटों की सूची में आते हैं, जहां सोशल वेबसाइटें सबसे ज्यादा प्रचलित होती हैं

ये केवल कुछ मुख्य वेबसाइट के प्रकार हैं, लेकिन वेबसाइटें और उनके प्रकार अनेक हो सकते हैं जैसे कि सामाजिक मीडिया साइट, सरकारी वेबसाइट, शिक्षा वेबसाइट आदि।

आशा है, यह जानकारी आपको वेबसाइट के बारे में समझने में मददगार साबित हुई होगी। वेबसाइट आजकल इंटरनेट का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और इसका उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

वेबसाइट का इतिहास (History of Website in Hindi))

वेबसाइट का इतिहास बहुत पुराना नहीं है। दुनिया की पहली वेबसाइट 6 अगस्त 1991 को टिम-बर्नर्स ली द्वारा बनाई गई थी। टिम-बर्नर्स ली एक ब्रिटिश वैज्ञानिक थे। उन्होंने ही वर्ल्ड वाइड वेब (डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू) की खोज की थी। दुनिया की पहली वेबसाइट आज भी उपलब्ध है और आप उसे देख सकते हैं। नीचे हमने उसका लिंक दिया है। उसे देखने के लिए क्लिक करें।

दोस्तों, वेबसाइट से संबंधित पूरी जानकारी हमने आपको दे दी है। अब हम जानते हैं कि वेबसाइट के क्या फायदे हैं।

वेबसाइट के फायदे (Benefits of website in hindi)

वेबसाइट के कई फायदे होते हैं। यहां हमने कुछ महत्वपूर्ण फायदों का जिक्र किया है। इसके अलावा भी वेबसाइट के और भी महत्वपूर्ण फायदे हो सकते हैं। चलिए, हम कुछ वेबसाइट के लाभों के बारे में पढ़ते हैं, जिससे हमें वेबसाइट की महत्वता का अंदाजा होगा।

1. जानकारी का भंडार (Informative)

इंटरनेट का सबसे अधिक उपयोग संचार और जानकारी खोजने में किया जाता है। आज इंटरनेट जानकारी का बहुत बड़ा भंडार बन चुका है। इसका श्रेय उन लाखों वेबसाइट को जाता है, जो इस तरह की जानकारी प्रकाशित करती हैं। कुछ वेबसाइट पढ़ाई, टेक्निकल जानकारी आदि प्रदान करती हैं। कुछ वेबसाइट किसी प्रकार की समस्या को हल करने के लिए चरण-दर-चरण जानकारी प्रदान करती हैं। जब हमें किसी प्रकार की जानकारी खोजने की आवश्यकता होती है, तब हम सर्च इंजन पर अपना कीवर्ड लिखते हैं। इसके बाद सर्च इंजन हमें संबंधित वेबसाइटों की सूची प्रदर्शित करता है।

2. ऑनलाइन बैंकिंग (online banking)

आज हम बिना बैंक में लंबी कतार में खड़े हुए अपने बैंक के सारे काम कर सकते हैं। यह वेबसाइट की वजह से हुआ है। ऑनलाइन नेट बैंकिंग बैंक के आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से होती है, और यह बैंक में जाने से बेहतर होती है। यह कभी बंद नहीं होती है और हमेशा (24/7) अपने बैंकिंग कार्य कर सकते हैं। इसका अर्थ यह है कि जब बैंक बंद होता है, तब भी ऑनलाइन सेवा जारी रहती है।

3. ऑनलाइन मनोरंजन (online entertainment)

वेबसाइट ऑनलाइन मनोरंजन का सबसे अच्छा माध्यम बन चुका है। आप YouTube पर वीडियो देखकर अपना मनोरंजन कर सकते हैं। चूंकि YouTube भी एक वेबसाइट है, इसलिए एक वेबसाइट में अनेक मनोरंजन के विकल्प हो सकते हैं, जैसे गेम खेलना, गाने सुनना, फ़िल्में देखना आदि। कुछ विकल्प मुफ्त भी हो सकते हैं। इसके अलावा, वेबसाइट के माध्यम से आप अपनी कला या प्रतिभा को दुनिया के सामने पेश कर सकते हैं, जैसे कि कृत्य, नृत्य आदि।

4. व्यापारिक मार्केटिंग (business marketing)

स्टार्टअप या स्थापित व्यवसायों के लिए वेबसाइट बनाना फायदेमंद हो सकता है। इससे आप अपने व्यवसाय के ग्राहकों को लक्षित कर सकते हैं। किसी व्यवसाय का वेबसाइट बनाना एक प्रकार का आर्थिक विज्ञापन है, जिससे आप अपने उत्पादों और सेवाओं की बिक्री बढ़ा सकते हैं।

5. विज्ञापन के बदले पैसे (money for advertising)

अगर आपकी वेबसाइट है, तो आप उस पर विज्ञापन दिखाकर पैसे कमा सकते हैं। इसके लिए Google AdSense और Media.net सबसे अच्छे विज्ञापन सेवाएं हैं, जो वेबसाइट के मालिक को विज्ञापन दिखाने के बदले पैसे देती हैं। इस तरह आज लाखों लोग अपनी वेबसाइट से पैसे कमा रहे हैं।

वेबसाइट से जुड़े शब्द (Website Related Terms in Hindi)

आपने वेबसाइट के बारे में लगभग सभी जानकारी प्राप्त कर ली है, लेकिन पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए आपको वेबसाइट संबंधित शब्दों की भी जानकारी होनी चाहिए। यहां कुछ ऐसे शब्द हैं:

1. डोमेन नाम (domain name)

डोमेन नाम वेबसाइट का पता होता है, जो उस विशेष वेबसाइट की पहचान कराता है। हर वेबसाइट का अपना एक अद्वितीय डोमेन नाम होता है। डोमेन नाम की मदद से हम उस वेबसाइट तक पहुंच सकते हैं।

2. वेब होस्टिंग/वेब सर्वर (web hosting/web server)

वेब होस्टिंग वेबसाइट को इंटरनेट पर अपलोड करने की सेवा है। इसके लिए एक प्रबंधित सर्वर की आवश्यकता होती है जो हमारी वेबसाइट के डेटा को संग्रहित करता है। सर्वर एक कंप्यूटर होता है जो हमेशा इंटरनेट से जुड़ा रहता है ताकि वेबसाइट कभी भी उपलब्ध रहे।

3. वेब पेज (web page)

वेब पेज वेबसाइट के हर एक पेज को कहते हैं। जब हम किसी वेबसाइट को खोलते हैं, तो हम दिखने वाले पेज को वेब पेज कहते हैं। इस पेज पर हमें सामग्री, छवियाँ, वीडियो और अन्य जानकारी मिलती है। एक वेबसाइट में कई वेब पेज हो सकते हैं।

4. एचटीएमएल (HTML)

एचटीएमएल (HTML) वेबसाइट डिज़ाइन करने के लिए एक मानक कोडिंग भाषा है। हर वेब पेज HTML में लिखा जाता है। जो ब्राउज़र द्वारा पढ़ी जाती है और उसे दिखाने के लिए इंटरनेट सर्वर पर संग्रहीत की जाती है।

5. वेब ब्राउज़र (Web browser)

वेब ब्राउज़र एक प्रोग्राम है जिसका उपयोग वेबसाइटों के लेख, छवियाँ, वीडियो और अन्य जानकारी को देखने के लिए किया जाता है। यह सर्वर पर उपलब्ध जानकारी को मानव-पठनीय रूप में प्रदर्शित करता है। कुछ प्रसिद्ध वेब ब्राउज़र हैं Google Chrome, Mozilla Firefox, Internet Explorer, Safari, Opera आदि।

6. सर्च इंजन (search engine)

सर्च इंजन वेबसाइटों को सूचीबद्ध करने के लिए एक वेबसाइट है। यह उपयुक्त वेबसाइट को खोजने और प्रदर्शित करने का काम करता है। कोई भी उपयोक्ता जब भी सर्च इंजन पर कुछ खोजता है, तो सर्च इंजन उसके लिए उपयुक्त वेबसाइटों की सूची प्रदर्शित करता है।

7. डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू (WWW)

डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू (WWW) का पूरा नाम वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) है। यह एक हाइपरटेक्स्ट की एक प्रणाली है जो इंटरनेट से जुड़े दस्तावेज़ों को प्राप्त करने के लिए उपयोग होती है। यह एक वेब ब्राउज़र की मदद से देखी जा सकती है।

8. हाइपरलिंक्स (hyperlinks)

हाइपरलिंक्स को आमतौर पर सिर्फ लिंक या वेब लिंक के रूप में जाना जाता है। यह चित्र, आइकन, या टेक्स्ट हो सकता है जो दूसरी वेब फ़ाइल या ऑब्जेक्ट को लिंक करता है। जब हम इस पर क्लिक करते हैं, तब हम दूसरे पेज पर पहुंचते हैं। हाइपरलिंक्स से वेब पेज और फ़ाइलें जुड़ी होती हैं।

9. होमपेज (home page)

होमपेज भी एक वेब पेज होता है जो किसी वेबसाइट के मुख्य पेज को संदर्भित करता है। यह उस वेबसाइट की प्रवेशिका होती है, जहाँ से अन्य पेज प्रारंभ होते हैं। होमपेज आमतौर पर डोमेन नाम से जुड़ा होता है।

10. यूआरएल/वेब पता (URL / web address)

यूआरएल (Uniform Resource Locator) एक पेज का एक अद्वितीय नाम और पता होता है। इससे वेब पेज को इंटरनेट पर पहचाना जाता है और उस वेब पेज तक सीधे पहुंचा जा सकता है। आमतौर पर इसे वेब पता के रूप में जाना जाता है। प्रत्येक वेब पेज का एक अद्वितीय यूआरएल होता है जिसमें डोमेन नाम शामिल होता है।

11. एचटीटीपी/एचटीटीपीएस (http/https)

एचटीटीपी (HTTP) और एचटीटीपीएस (HTTPS) दोनों नेटवर्क प्रोटोकॉल हैं जो वेब पर डेटा संचार के लिए उपयोग होते हैं। एचटीटीपी नियमित रूप से इस्तेमाल होता है जबकि एचटीटीपीएस सुरक्षित संचार करता है। एचटीटीपीएस डेटा को एन्क्रिप्टेड रूप में संचार करता है। वेब पेज के यूआरएल के प्रारंभ में HTTP या HTTPS होता है।

12. एसएसएल सर्टिफिकेट (ssl certificate)

एसएसएल सर्टिफिकेट एक वेबसाइट का प्रमाणपत्र होता है जो दिखाता है कि वेबसाइट डेटा एन्क्रिप्शन का उपयोग कर रही है। आजकल हर वेबसाइट एसएसएल सर्टिफिकेट का उपयोग करती है ताकि वेबसाइट का डेटा सुरक्षित रहे। वेबसाइट पर एसएसएल सर्टिफिकेट लगाने के लिए इसे खरीदना पड़ता है। जब आप अपनी वेबसाइट पर एसएसएल सर्टिफिकेट लगा देते हैं, तब आपके वेबसाइट के यूआरएल में HTTP की जगह HTTPS दिखाई देने लगता है।

13. सबडोमेन (subdomain)

सबडोमेन वह डोमेन है जो मुख्य डोमेन के तहत बनाया जाता है। जब हम अपनी वेबसाइट के लिए डोमेन खरीदते हैं, तब वह डोमेन जैसा होता है जैसे example.com, example.in, example.org। इस डोमेन का उपयोग करके हम अपनी वेबसाइट बनाते हैं। लेकिन जब हम उसी डोमेन को एक उपश्रेणी के रूप में अलग वेबसाइट के लिए उपयोग करते हैं, तब उसे सबडोमेन कहते हैं। सबडोमेन का दिखने में इस तरह का होता है; hindi.example.com, blog.example.org, eng.example.com।

14. थीम/टेम्पलेट (Theme/Template)

थीम/टेम्पलेट हमारी वेबसाइट के डिज़ाइन को संदर्भित करती है। यह निर्धारित करती है कि हमारी वेबसाइट कैसी दिखेगी। यह थीम/टेम्पलेट HTML, CSS, और जावास्क्रिप्ट की मदद से डिज़ाइन की जाती है। आजकल हर कोई अपनी वेबसाइट के लिए थीम/टेम्पलेट नहीं बनाता है। वे इसे अपनी आवश्यकताओं के अनुसार दूसरों से बनवाते हैं या फिर बनाए हुए खरीदते हैं।

15. वेब कुकीज़ (web cookies)

वेब कुकीज़ एक छोटी सी पाठ्य फ़ाइल होती है जो इंटरनेट कुकीज़ या एचटीटीपी कुकीज़ नामों से भी जानी जाती है। जब हम किसी वेबसाइट पर जाते हैं, तब यह ब्राउज़र द्वारा स्वतः ही डाउनलोड हो जाती है। वेब कुकीज़ बाद में उस वेबसाइट पर साइन अप या किसी फ़ॉर्म भरने में उपयोग की जाती है। आजकल लगभग सभी वेबसाइट वेब कुकीज़ का उपयोग करती है। इससे उपयोगकर्ता अनुभव बेहतर रहता है।

Conclusion – Website in Hindi

मुझे खुशी है कि आपको यह लेख (website in hindi) पसंद आया होगा और इससे आपने कुछ नया सीखा होगा। यहाँ हमने वेबसाइट के बारे में सभी जानकारी को सरल भाषा में पेश करने का प्रयास किया है। इस लेख में हमने वेबसाइट की परिभाषा, कार्य प्रक्रिया, और इसके फायदों के बारे में चर्चा की है। यहाँ वेबसाइट के इतिहास और अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर भी बात की गई है। यद्यपि इस लेख में नीचे दिए गए प्रश्नों पर पूर्ण जानकारी दी गई है, फिर भी यदि आपके पास कोई प्रश्न हो तो कमेंट द्वारा पूछ सकते हैं।

Techcalculation
Techcalculation

Techcalculation.com एक हिंदी ब्लॉग है इस ब्लॉग पर आपको टेक्नॉलजी, कम्प्यूटर, Internet और एजुकेशन से सम्बंधित जानकारी हिंदी में मिलती है

Articles: 75

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *